टैली क्या है ? टैली का उपयोग कैसे करे – What Is Tally In Hindi

क्या आप भी टैली के बारे में जानना चाहते है की Tally Kya Hai तो आज आप बिलकुल सही जगह पर आये है क्युकी आज हम इसी टॉपिक के बारे में जानेंगे की What Is Tally In Hindi यानि की टैली क्या है ? और टैली का इस्तेमाल कहा कहा किया जाता है और आज के जमाने में टैली का इतना डिमांड क्यों है |

टैली का अकाउंट के जीवन में काफी महत्व है और जब डिजिटल इंडिया का विकास हो रहा तब से टैली की काफी मांग बढ़ गयी है बहुत से ऐसे लोग है जो की नहीं जानते की Tally Kya Hoti Hai और टैली कैसे सीखे और साथ ही हम आपको टैली से जुडी सभी जानकारी इस आर्टिकल के जरिये देने वाले है जिससे की आपको टैली के बारे में पूरी जानकारी को जाये की Tally kya Hai In Hindi और इसे कैसे सीखे टैली करने के क्या क्या फायदे है और ये कितने दिन का कोर्स होता है तो चलिए शुरू करते है |

टैली क्या है – What is tally in hindi

टैली एक पॉपुलर Accounting Software है जिसके द्वारा कंपनी या व्यक्ति के द्वारा किये गए लेन देन की जानकारी को एकत्र करके रखी जाती है टैली में उपयोगकर्ता द्वारा , खाते का रिकार्ड रखने , हिसाब किताब रखने और उनके व्यवस्थापन के लिए टैली इस्तेमाल किया जाता है टैली में जमा की राशि , निकाली गयी राशि और उस खाते की पूरी जानकारी के साथ साथ के Pure Description की भी Entry की जाती है।

tally kya hai

पुराने जमाने जब लोग अपने बिज़नेस में होने वाले सभी वित्तीय लेन देंन को हाथ से लिख कर डॉक्यूमेंट और दस्तावेज में रखा करते थे क्युकी बिज़नेस में आप लाभ और हानि का पता तभी लगा सकते है जब अपने सभी चीज़े नोट की होंगी और आपको पता हो की अपने क्या बेचा है क्या खरीदा है और क्या क्या चीज़ बेचने से आपको फायदा मिला है और किस चीज़ में आपको नुकसान हुआ है पुराने जमाने में हम दस्तावेज का इस्तेमाल करते थे  लेकिन अब समय बीत चूका है सभी प्रकार के व्यवसाय में कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाने लगा है और अकाउंट से जुड़े सभी काम tally पर ही किया जाता है

जब भी कंप्यूटर के अकाउंटिंग करने करने की बात आती है वह टैली का नाम सबसे पहले आता है क्युकी अकॉउंटिंग में बहुत तरह के पेचीदा गणना करना होता है जो अगर हाथ से करे तो बहुत ही ज्यादा टाइम लग जायेगा और वो काम कंप्यूटर पर टैली की हेल्प से जल्दी से पूरा हो जाएगा टैली का इस्तेमाल भारत के साथ साथ और भी दूसरे देश में वित्तीय लेन देन का रिकॉर्ड रखने के लिए टैली का इस्तेमाल किया जाता है आपको ये समझ आ गया होगा की Tally Kya Hai या फिर Tally Kya Hoti Hai अब आगे जानेंगे की टैली का इतिहास क्या है |

टैली का पूरा नाम क्या है ? – Tally Full Form in Hindi

टैली का पूरा नाम “Transactions Allowed in a Linear Line Yards” ( ट्रांसक्शन्स एलाउड इन ए लीनियर लाइन यार्ड्स ) है |

टैली का इतिहास – History Of Tally in Hindi

टैली का इतिहास काफी पुराना है अकॉउंटिंग का काम तो काफी पहले से किया जा रहा है तब खाते से लेन देन की जानकारी कागजो पर किया जाता था जो की एक दस्तावेज में संभाल कर अकॉउटिंग से जुडी सभी जानकारी को रखा जाता था जो की एक मुनीव जी होते थे जो की खाते से जुडी लेन देन की जानकारी कागजो पर नोट करते थे लेकिन अब जमाना बदल गया है और उनके जगह टैली सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है |

टैली के जनक श्याम सुंदर गोयनका ( Shyam Sunder Goenka ) द्वारा टैली सॉफ्टवेयर का 1986 में अविष्कार किया गया था श्याम सूंदर गोयनका जी पहले टेक्सटाइल मिल में कच्चा माल सप्लाई किया करते थे और उस टाइम में कई सॉफ्टवेयर नहीं था जिससे उन्हें हिसाब किताब रखने में काफी दिक्कत होती थी इस वजह से उन्हें व्यापार में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था तब उन्होंने अपने बेटे के साथ मिलकर MS DOS सॉफ्टवेयर बनाया जिसका की बाद सं 1988 में नाम बदलकर Tally कर दिया गया और सं 1999 में इस कंपनी ने formally कंपनी का नाम बदलकर Tally Solutions रखा |

टैली कोर्स कितने प्रकार के होते है ? – Types Of Tally in Hindi

टैली कोर्स 2 प्रकार की होती है

  1. बेसिक टैली
  2. एडवांस टैली

बेसिक टैली में आपको टैली के बारे में बेसिक जानकारी दिया जाता है जो की आप 3-4 महीने में सीख सकते है लेकिन अलग आपको एडवांस टैली के बारे सीखना है तो उसके लिए आपको 4-5 महीने लग सकते है जिसमे की आपको टैली के बारे में पूरी जानकारी को जाएगी और टैली को आपको पूरा कोर्स करने में बेसिक और एडवांस टैली सीखने में 8-9 महीने तक का समय लग जाता है |

टैली के Version

1 . Tally 4.5

टैली ने अकॉउंटिंग का अपना पहला वर्जन सं 1990 में लॉन्च किया था जो MS – DOS पर आधारित था जिसमे की टैली के आपको कुछ सिमित फीचर ही मिलते थे इस वर्जन को प्युट्रॉनिक्स नाम दिया गया था |

2 . Tally 5.4

यह टैली का 2nd वर्जन था जो की सं 1996 में रिलीज किया गया था जो की टैली में कुछ अपडेट के साथ जो की टैली का Graphic Interface Version था |

3 . Tally 6.3

टैली का ये 3rd वर्जन था जो की Windows पर आधारित था और ये वर्जन सं 2001 में लॉन्च किया गया था जिसका का मुख्य रूप से इस्तेमाल प्रिंटिंग के लिए किया जाता था |

4 . Tally 7.2

ये टैली का चौथा संकरण था इसका मुख्य गुण Value Added Taxation था और ये वर्जन टैली ने सं 2005 में लॉन्च किया था |

5 . Tally 8.1

ये वर्जन टैली के तरफ से सं 2006 में लॉन्च किया गया था जो एक नया डाटा स्ट्रक्चर्ड पर आधारित था जिसमे आपको Point of Sale और Payroll जैसे जबरदस्त फीचर इस वर्जन में जोड़ा गया था |

6 . Tally 9

टैली का Tally 9 वर्जन भी साल 2006 में ही लॉन्च किया गया था लेकिन ये वर्जन टैली के पिछले सभी वर्जन से काफी अलग और उपयोगी था इस वर्जन में कई नए फीचर जैसे TDS, FBT, Payroll, E-TDS Filling आदि शामिल किया गया था |

7 . Tally ERP 9

Tally ERP 9 ये टैली का सबसे नया वर्जन है यानि ये Latest Version है जो की साल 2009 में लॉन्च किया गया था जो की बिज़नेस मैनेजमेंट सोलुशन के रूप में लॉन्च किया |

साल 2015 में Tally Solution ने टैक्सेशन तथा कंप्लायंस फ़ीचर्स के साथ Tally ERP 9 5.0 Version लॉन्च किया  जिसे छोटे और बड़े सभी बिज़नेसेस सभी के लिए इस्तेमाल किया जाता है, GST के लिए Tally ERP का उपयोग सबसे अधिक किया जाता है |

टैली कैसे और कहा से सीखे ?

दोस्तों अगर आपको Tally का बारे में सीखना है और उसमे अपना भविष्य बनाना चाहते है और आपको अकॉउंटिंग जुड़े काम करने में रूचि है तो आप टैली कोर्स किसी अच्छे कंप्यूटर इंस्टिट्यूट में सीख सकते है या फिर आप ऑनलाइन भी सीख सकते है यू ट्यूब पर बहुत से ऐसे वीडियो मिल जायेगे जिससे आप टैली सीख सकते है लेकिन आप टैली को एकदम अच्छी तरह से समझना चाहते है तो आपको इंस्टिट्यूट ज्वाइन कर ले वो आपके लिए अच्छा ऑप्शन रहेगा |

टैली करने के फायदे

आज के टाइम में सरकारी जॉब पाना काफी मुश्किल हो गया है और आज के टाइम में डिजिटल इंडिया को काफी बढ़ावा दिया जा रहा है अगर आप टैली सीख लेते है तो आपको काफी फायदा है जिसमे आप जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है जैसे

  • चार्टर्ड अकाउंटेंट
  • बिल्डर्स
  • डाक्टर
  • सुपर मार्किट
  • वकील
  • व्यापार क्षेत्र

जैसे बहुत से क्षेत्र है जिसमे की आप टैली करने के बाद फुल टाइम या पार्ट टाइम जॉब कर सकते है जिसमे आपको अच्छी सैलरी भी मिलेगी |

निष्कर्ष

तो दोस्तों आज के आर्टिकल में हमने जाना की Tally Kya Hai जिसमे मैंने आपको टैली से जुडी सभी जानकारी देने की कोशिश किया है और बताया है की what is tally in hindi और टैली आप कैसे सीख सकते है और साथ ही टैली से जुडी बहुत सी जानकारी देने की कोशिश की है मुझे उम्मीद है ये जानकारी आपको जरूर पसंद आयी होगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और कँनेट बॉक्स में भी अपनी राय जरूर बताये |

इसे भी पढ़े :

FAQ : Tally Kya Hai In Hindi

Q1 . टैली कोर्स कितने दिनों का होता है?

Ans : टैली 4 से 6 महीने तक का कोर्स होता है |

Q2. टैली की फीस कितनी होती है ?

Ans : टैली की फीस 8०० से कर 2००० रूपये प्रति माह हो सकती है |

Q3 . टैली के जनक कौन है ?

Ans : टैली के जनक श्याम सुंदर गोयनका है |

Leave a Comment